एम्स निदेशक प्रो रविकांत को लेकर बुलाई राजनीतिक सर्व दलीय बैठक-डीएस गुसाईं

विरेन्द्र चौधरी
ऋषिकेश।राज्य आंदोलनकारी मंच उत्तराखंड की एक बैठक शहीद स्मारक स्थल पर आहूत की गई।जिसमें एम्स प्रशासन द्वारा लिए जा रहे नियमाविरूद्ध व उत्तराखंड जनविरोधी फैसलों को लेकर रोष प्रकट किया गया।बैठक में मुख्य रूप से एम्स से निकाले गये 49 कर्मचारियों एवं नयी भर्तियों को लेकर चर्चा हुई। बैठक में एम्स प्रशासन में फैले भ्रष्टाचार को लेकर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जे पी नडडा से जांच कराने की मांग उठी।
बैठक में अधिकतर वक्ताओं ने कहा कि एम्स प्रशासन ने हाल ही में 49 कर्मचारियों को बेवजह कार्यमुक्त कर निकाल बाहर किया है। अब एम्स में नयी भर्तियों की तैयारी शुरू हो चुकी है।वक्ताओं ने सवाल खड़ा करते हुए कहा कि जब एम्स को नयी भर्ती करनी थी तो पुराने अनुभवी कर्मियों को निकालने की क्या आवश्यकता थी। वक्ताओं ने सीधे एम्स निदेशक प्रोफेसर रविकांत पर आरोप लगाया कि रविकांत पुराने अनुभवी कर्मियों को निकाल गैरअनुभवी और गैर राज्यों के लोगों की भर्ती इसलिए कर रहे है कि उनसे मोटी कमाई की जा सके।मंच के लोगो ने कहा कि अगर रविकांत ने ऐसा किया तो रविकांत की पोल खोली जायेगी,काले कारनामों को उजागर कर किये जायेंगे।
उत्तराखंड राज्य आंदोलनकारी मंच के प्रदेश महामंत्री डी एस गुसाईं ने कहा कि एम्स निदेशक रविकांत ने सोची समझी साजिश के तहत 49 कर्मचारियों को बाहर कर नयी भर्ती की प्लानिंग की है। ताकि वे नयी भर्ती के नाम पर कमाई कर सके। उन्होंने कहा कि निदेशक की शय पर एक ही परिवार के 4-5आदमियों को रख रखा है क्यूं? उन्होंने कहा कि उन्हें पता चला है नयी भर्ती के लिए अपने चहेतों आवेदको को चार पांच दिन पहले ही पेपर पढवा दिया जाता है। गुसाईं ने कहा कि एम्स में मेडिकल स्टोर, कंट्रकशन, वाहन स्टैंड और कैटीन सब रविकांत के खास सिपहसालारों के पास है, जिनसे निदेशक एम्स मोटी कमाई करते है। उन्होंने कहा अगर रविकांत की जांच कराई जाये तो लखनऊ तैनाती से लेकर ऋषिकेश तक सैकडों करोड़ के घोटाले सामने आ जायेगे।

49 कर्मचारियों को निकालने, नयी भर्तियों को करने को  लेकर  एम्स निदेशक रविकांत आरोपों के घेरे में-रविकांत के खिलाफ आंदोलन को लेकर बुलाई राजनीतिक सर्व दलीय  बैठक – डीएस गुसाईं 

मंच के महामंत्री डी एस गोसाईं ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जे पी नडडा से जांच की मांग करते हुए कहा कि निम्न बिंदुओं पर जांच होनी चाहिये कि पुराने 49 कर्मचारियों को क्यों निकाला गया?अब नयी भर्तियां क्यों की जा रही है। एम्स में मेडिकल स्टोर, कंट्रकशन, वाहन स्टैंड और कैटीन वालों से रविकांत के क्या संबध है। उन्होंने यह भी मांग की कि नयी भर्तियों में 70%भर्ती उत्तराखंड राज्य से ही होनी चाहिये।उन्होंने कहा उन्हें बताया जा रहा है निकाले गये कर्मचारियों को रविकांत के गुर्गे धमकिया दे रहे है। उन्होंने कहा मंच संयुक्त संघर्ष समिति के साथ सड़कों पर आंदोलन को बाध्य है। जिसकी जिम्मेदारीकेन्द्र सरकार की है। गुसाईं के अनुसार आगामी 23 फरवरी को इन्हीं मुद्दों को लेकर सर्वदलिय बैठक होगी। जिसमें भाजपा, कांग्रेस, सपा-बसपा, यूकेडी शामिल होगी।

Share this...
Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *