अब अपने हको की होगी लड़ाई लखनऊ को नही चाटने देगें मलाई-लोकेन्द्र सिंह

डीपी सिंह 

नयी दिल्ली।आज दोआबखंड निर्माण संगठन की एक बैठक शालीमार गार्डन दिल्ली में आहूत की गयी। जिसकी अध्यक्षता चौधरी जगवीर सिंह व संचालन प्रमोद तोमर ने किया। बैठक में महत्वपूर्ण फैसला लेते हुए दोआबखंड राज्य का नाम पश्चिमाचंल प्रदेश रखे जाने पर सहमति बनी।जिसके चलते दोआबखंड निर्माण संगठन का नाम बदलकर पश्चिमाचंल निर्माण संगठन की घोषणा की गयी। इस अवसर पर संगठन के संविधान को प्रमोद तोमर ने पढकर सुनाया,जिसका सभी पदाधिकारियों ने अनुमोदन कर दिया।
संगठन के संरक्षक जगवीर सिंह सांगवान व किसान नेता ने कहा पश्चिमाचंल की मांग पुरानी है।मगर पश्चिमाचंल राजनीति का शिकार है,अब इसके अलग राज्य बनने तक लडाई जारी रखी जाये।

इस अवसर पर संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष लोकेन्द्र सिंह ने कहा कि आज़ादी से लेकर आज तक सभी राजनीतिक दलों ने पश्चिमाचंल का दोहन और शोषण किया है। जिसे अब बर्दाश्त नहीं किया जायेगा।उन्होंने कहा सभी पदाधिकारी गांव-गांव जाकर प्रचार प्रसार करें और संगठन को मजबूत बनायें।
महासचिव संजीव चिकारा ने कहा कि पश्चिमाचंल की मांग को लेकर आंदोलन तेज किया जायेगा।जो जल्दी ही धरातल पर दिखाई देगा। उन्होंने कहा कि अलग प्रदेश की मांग को लेकर कईं संगठन प्रयास कर रहे हैं, जो लोग पश्चिमाचंल के लिए जमीनी लडाई लड़ना चाहते हैं, उनका संगठन में स्वागत रहेगा।
पश्चिमाचंल के वरिष्ठ नेता व संगठन के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष डा०आमिर हसन ने कहा कि ये लडाई अपने हको की लडाई है,इसके लिए हिंदू-मुस्लिम-सिख-ईसाई को आज़ादी की लडाई की तरह संगठित होकर लड़ना होगा।
संगठन के राष्ट्रीय प्रवक्ता प्रमोद तोमर ने कहा पश्चिमाचंल की पुरानी मांग को लेकर कईं संगठन प्रयास करते रहे है,लेकिन उनके प्रयास या तो निजी हितों की भेंट चढ़ गये या राजनीति के शिकार हो गये। हमारा संगठन पश्चिमाचंल की घोषणा होने तक खामोश नहीं बैठेगा।क्योंकि हमारा संगठन निष्ठा समर्पण व संघर्ष को समर्पित है। तोमर ने कहा अब लडाई निर्णायक होगी।

 अब अपने हको के लिए होगी लड़ाई लखनऊ को नही चाटने देगें मलाई की अवधारणा पर पश्चिमाचंल निर्माण संगठन आंदोलन खड़ा करेगा। पश्चिमाचंल बनने तक लडाई जारी रखी जायेगी – लोकेन्द्र सिंह राष्ट्रीय अध्यक्ष 

उत्तराखंड झारखंड तेलगांना छत्तीसगढ़ बन सकते है राज्य, तो पश्चिमाचंल क्यूं नहीं ? पश्चिमाचंल के लिए हर कुर्बानी को तैयार-विरेन्द्र चौधरी विशेष सचिव स्वतंत्र प्रभार जनसंपर्क 

विरेन्द्र चौधरी विशेष सचिव स्वतंत्र प्रभार जनसंपर्क ने कहा झारखंड-छत्तीसगढ़-उत्तराखंड-तेलगांना अलग राज्य बन सकते हैं तो पश्चिमाचंल क्यूं नहीं ? उन्होंने कहा इसके लिए हमें जमीनी आंदोलन खड़ा करना होगा।उन्होंने कहा फेसबुक, व्हाटसएप पर तो कईं संगठन लडाई लड रहे है,हम जेल भरो आंदोलन से लेकर सत्ता में बैठे राजनीतिक शिकारियों की गोली का शिकार भी होना पडा तो हमें तैयार रहना होगा।
राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राजू पड़ित व नीरज शर्मा ने कहा कि संगठन को मजबूत करने के लिए हमें ब्लड डोनेट, आई मैडिकल कैंप,गरीब कन्याओं के विवाह जैसे सामाजिक कार्य भी करने होगें।
विनोद करनावल राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ने कहा हक मांगने से नहीं मिलते, हको को छीनना पड़ता है। विनोद करनावल ने कहा कि किसी भी आंदोलन के लिए कुर्बानियां देनी पड़ती है।इसके लिए हमें मानसिक और शारीरिक कुर्बानियों के लिए तैयार रहना होगा।

मीडिया प्रभारी राजेश शर्मा बोले हमें इस आंदोलन के लिए लेखकों, पत्रकारों और कवियों की भूमिका पर भी विचार करना होगा।
संगठन सचिव राजीव उज्जवल न के पी सांगवान ने कहा कि हमें ब्लाक स्तर पर कार्यकर्ता तैयार कर उन्हें जिम्मेदारी देनी होगी और दूर-दराज के इलाकों में वर्कशाप लगाकर पश्चिमाचंल के लिए बड़ा आंदोलन खड़ा करना होगा।

 

Share this...
Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *